बच्चों में होने वाले पेट दर्द

बच्चों में होने वाले पेट दर्द

छोटे बच्चों में होने वाले पेट दर्द को नजरअंदाज न करें। अक्सर देखने में आता है कि बच्चों में पेट दर्द बहुत होता है । ये दर्द कभी -कभी होते है तो खानपान पर ध्यान देना जरूरी हो जाता है। मगर पेट का दर्द जब लगातार बना रहे तो स्थिति गम्भीर हो जाती है। यह छोटे बच्चों में होनी वाली गम्भीर स्वास्थ्य समस्या है। आम तौर पर पेट दर्द को पाचन तंत्र से जुडी समस्याओं से हम जोड़ते हैं । मगर सच तो यह है कि हमें समझना चाहिए कि यह दर्द शरीर के किसी भाग में होने वाली अन्य समस्या का संकेत भी है।
सामान्य कारणों पर गौर करें तो पेट दर्द के पीछे निम्न कारण हो सकते है।
गैस, कब्ज, दस्त लगना, जरूरत से ज्यादा खाना, अपच इत्यादि

 

 

मगर ये सभी कारण शरीर में जो समस्याएं पैदा करती है वे निम्न लिखित हो सकती हैं
डायरिया
पेट में संक्रमण
अपेन्डिसाईटिस
गाॅल ब्लैडर स्टोन
यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन
गले का संक्रमण
गेस्ट्रोएंट्राईटिस
मिल्क एलर्जी
फूड एलर्जी
अल्सर

इसे भी पढ़ि़ए

[insert page=’unhealthy-food-for-children’ display=’title’]

क्या हैं उपचारः-

दर्द के आधार पर उपचार किए जाते हैं । अगर दर्द संक्रमण के कारण हो रहा है तो उसके लिए दवाईयां दी जाती है। दूध से एलर्जी की वजह से अगर दर्द हो रहा है तो दूध से बने उत्पादों से दूरी बनाए रखने में ही समझदारी है।
ध्यान रखें बच्चों को शरीर नाजुक होता है उनका शरीर विकसित हो रहा होता है, इसीलिए पाचन तंत्र से लेकर दूसरे तंत्रों का विकास पूरी तरह नहीं हुआ होता है। बच्चों का इम्यून तंत्र भी कमजोर होता है, इसलिए जरा सा संक्रमण भी उनका पेट खराब कर सकता है।

बच्चों को उल्टी हो रही है तो दवाईयों के साथ प्र्याप्त मा.त्रा में तरल पदार्थदेना जरूरी हो जाता है, ताकि बच्चे के शरीर मं पानी की कमी न हों । जब तक बच्चा ठीक न हो जाए उसे हल्का और सुपाच्य भीेजन दें । अगर किसी गंभीर समस्या के कारण पेट दर्द हो रहा है। तो उस समस्या का उपचार किया जाता है।

बस्तरिया बियर

यह एक प्रकार का मादक पेय है जिसे आम भाषा में ताड़ी भी कहते है आदिवासियों जीवन में सल्फी मादक पेय ही नहीं बल्कि सामाजिकता का प्रतीक भी है जानते है क्या खूबियां है इस पेय में

इस कारण से चित्रकोट जलप्रपात सूख गया

जानिए क्या कारण है चित्रकोट जल प्रपात सूख गया है चंद दिनांे में ही चित्रकोट में पानी देखने को
मिला ठीक वैसे ही जैसे यह आमतौर पर देखने को मिलता है। बस्तर के नियाग्रा फाल समझे जाने वाले इस चित्रकोट
जलप्रपात में हर साल काफी संख्या में पर्यटक आते है । इस बार पर्यटकों के साथ पर्यावरण प्रेमी भी चित्रकोट फाॅल के
इस रूप पर अचंभित थे जानिए क्या है वें
क्लिक कीजिए।

जानिए क्या कारण है चित्रकोट जल प्रपात सूख गया है चंद दिनांे में ही चित्रकोट में पानी देखने को
मिला ठीक वैसे ही जैसे यह आमतौर पर देखने को मिलता है। बस्तर के नियाग्रा फाल समझे जाने वाले इस चित्रकोट
जलप्रपात में हर साल काफी संख्या में पर्यटक आते है । इस बार पर्यटकों के साथ पर्यावरण प्रेमी भी चित्रकोट फाॅल के
इस रूप पर अचंभित थे जानिए क्या है वें

Play School
Spoken English Classes
previous arrow
next arrow
Slider

सावधानियां

कैसे बचाए बच्चों को पेट के दर्द से
बचपन से ही बच्चों को साफ सफाई की आदत डालें ताकि बच्चे संक्रमण की चपेट में न आ सकें
उन्हें खाना अच्छे से चबाकर खाने की आदत डालें। उन्हें टीवी के सामने बैठकर खाना न खाने दें बल्कि हो सके तो उसे अपनी देखरेख में खुद ही खाने को कहें या खुद खाने का प्रशिक्षण दें।
उनके भोजन में फलों और सब्जियों को शामिल करें । खाने में दो तिहाई अनाज होना ही चाहिए तो एक तिहाई फल तथा सब्जियां
सबसे बड़ी बात बच्चों को फास्ट फूड या बाजार में पकाया गया भोजन न कराएं । उन्हें घर का बना खाना ही खिलाएं
अंकुरित अनाज खिलाएं क्योकि यह शरीर को आसानी से ग्रहण कर लेता है।
बच्चे देखकर सिखते हैं इसलिए सबसे जयरी है अपनी खानपान की आदतें सुधारें। तो बच्चे स्वतः ही खान पान के मामले में सुधर जाएंगें।

डाॅक्टर को कब दिखाना चाहिए?

बच्चे का पेट फूलकर सख्त हो गया हो
पेट में दर्द अचानक और बहुत तेज हो
मल या उल्टी मं खून दिखाई दे
कब्ज के कारण बच्चा मल पास न कर पाए
नाभि में दर्द होना उल्टी होना, फिर दर्द दायी ओर शिफट हो जाना, इसके साथ ही बुखार जो 102 डिग्री के उपर तक चला जाता है। और भूख की कमी, ये सभी अपेंडिटाईटिस के कारण हो सकते हैं
पेट के निचले भाग में सूजन आ जाना, यह हार्निया के कारण हो सकता है।
पेट के उपरी भाग में दायीं ओर दर्द होना पीलिया कइसकी बजह हो सकती हैं
लड़कियों में अचानक पेट के निचले भाग में दर्द होना और उल्टी होना, ओवेरियन सिस्ट के कारण हो सकता है।

adji

One thought on “बच्चों में होने वाले पेट दर्द

Leave a Reply

Your email address will not be published.