क्या है ग्राम सभा

भारत में प्रशासन की कई इकाईयां है एक केन्द्र स्तर पर जिसमें प्रधानमंत्री संसद और मंत्रिमंडल इत्यादि आते हैं दूसरा राज्य स्तर पर जिसमें विधानसभा , मुख्यमंत्रि और अन्य मंत्रीगण आते है जो राज्य स्तर पर कार्य करते है। फिर नगर स्तर पर नगरीय प्रशासन होता है जिसके अंतर्गत नगर निगम या नगरपालिका इत्यादि आते हैं। और गांवों में जो प्रशासन होता है उसमें ग्रामसभा,पंचायत की अहम भूमिका होती है । यह प्रशासन की सबसे छोटी ईकाई ज़रूर होती है मगर काफी अहम होती है ।

गांधीजी को क्यों नहीं मिला नोबल पुरस्कार?

आश्चर्य की बात है कि जिस शख्स ने पूरे विश्व को सत्य अहिंसा का संदेश दिया और विश्व को एक नया मार्ग दिया । उन्हें नोबल पुरस्कार से अभी तक नहीं नवाजा गया है....

बच्चों को खान-पान का ध्यान देने में क्या सावधानियां रखनी चाहिए।

previous arrow
next arrow
previous arrownext arrow
Slider

क्या है ग्राम सभा ?

ग्राम सभा की गरिमा और असर जिसप्रकार संसद का केन्द्र में है और राज्य में विधान सभा का है ठीक उसी प्रकार ग्राम सभा का ग्रामीण प्रशासनिक व्यवस्था में। और इस ग्राम सभा में लिए गए फैसले को काटने का अधिकार किसी को नहीं होता। यह व्यवस्था इसीलिए भी की गई है क्योंकि ग्रामीण ही समझता है उसे गांव में क्या-क्या सुविधाएं चाहिए और किस प्रकार चाहिए यह जानने के लिए गांव के लोगों के साथ मिलबैठकर एक सभा की जाती है और उस सभा में फैसले लिए जाते है। इसे ही ग्राम सभा कहते हैं ।

कैसे होता है गठन होता है ग्राम सभा का ?

सबसे पहले बात करते हैं उन क्षेत्रों का जहां पांचवी अनुसूचि लागू है ।ऐसे क्षेत्रों में ग्राम सभा में वे सदस्य होते है जिनके नाम मतदाता सूचि में होते है यानि जिनकी आयु 18 वर्ष से अधिक होती है। और ग्राम सभा में गांव वालों के अलावा और कोई भी सदस्य नहीं बन सकता है। हांलाकि शासकीय कर्मचारी भाग ले सकते हैं मगर वे  सभा में जारी किसी निर्णायक प्रकिया का हिस्सा नहीं बन सकते यानि गांव हित का निर्णय नहीं ले सकते हां शासकीय योजनाओं की जानकारी जरूर साझा कर सकते है। आखिरकार यही उनका काम है ..

ग्राम सभा के आयोजन से पूर्व

नियमानुसार ग्रामसभा आयोजित करने से सात दिन पूर्व  गांव में मुनादी यानि सूचना ग्रामीणों को दी जाती है । और यह कार्य लगातार सात दिनों तक होता है (नियमतः होना चाहिए )। हांलाकि मुनादी का प्रत्यक्ष काम ग्राम के कोटवार द्वारा किया जाता है। इसकी जिम्मेदारी ग्राम पंचायत के सचिव व सरपंच की होती है।  सरपंच का काम केवल व्यवस्था ही देखना होता है। (मै फिलहाल पांचवी अनुसूचि जहां प्रभावित है उन क्षे़त्रों की बात कर रहा हूॅं । )एक  बात और समूचे ग्राम सभा की कागजी कार्यवाही भी ग्राम सचिव का ही काम है।

ग्रामसभा की विशेष बैठक

ग्राम सभा अधिनियम के अनुसार ग्रामसभा की इन चार बैठकों के अलावा और भी बुलायी जा सकती है, अगर-

  • पंचायत किसी आवश्यक विषय पर ग्रामसभा बैठक बुलाना जरूरी समझे तो।
  • अगर जनपद तथा जिला पंचायत ग्राम पंचायत से ग्रामसभा की बैठक बुलाने की अपेक्षा करें तो।

अगर राज्य सरकार के प्रतिनिधि के रूप में कलेक्टर किसी विषय पर विचार तथा निर्णय के लिए ग्रामसभा की बैठक बुलाने की मांग करें तो। ऐसी स्थिति में ग्रामसभा की बैठक बुलाना जरूरी है। बैठक बुलाने की जिम्मेदारी सरपंच की है। ऐसी बैठक का आयोजन बैठक की मांग होने के तीस दिन के भीतर किया जाना जरूरी है।

कहां होती है ग्राम सभा?

गांव में ग्राम सभा उस स्थान पर आयोजित की जाती है जहां ग्रामीणों को पहूॅचने में सुविधा हो । स्थान खुला होना चाहिए । यानि किसी बंद कमरे में या किसी के घर पर ग्रामसभा नहीं आयोजित की जा सकती है।

देखने  में यह अक्सर आता है कि ग्राम सभा बंद कमरे में करवा दिया जाता है जो पूर्णतः नियम विरूद्ध है। 

कितने लोगों मौजूद होने पर की जाती है ग्राम सभा?

पहली बात तो यह है कि नियमानुसार गांव की कुल आबादी का एक तिहाही सदस्य यानि ग्रामीण  अगर मौजूद हो ग्राम सभा होता है । उसमें  एक तिहाही में महिलाओं  की एक तिहाही मौजूदगी होनी चाहिए।

इसे एक उदाहरण से समझते है  मान लिजिए किसी गांव में अगर 1000 ऐसे ग्रामीण है जिनके नाम मतदाता सूचि में है तो उनमें 333  ग्रामीण  कम से ग्राम सभा में होने चाहिए और 333 में से 111 महिलाएं होनी चाहिए।

जहां पांचवी अनुसूचि नहीं है वहां गांव की कुल आबादी का दसवां हिस्सा ही कोरम पूरा होने के लिए काफी है उदाहरण के तौर पर 1000 की आबादी में 100 ग्रामीणों को मौजूदगी पर्याप्त है तथा उनमें 33 महिलाएं होनी चाहिए। अगर वह गांव आदिवासी बाहुल्य है तो एक तिहाही आदिवासियों की मौजूदगी अनिवार्य है।
और ऐसा ही नियम कहता है। (ये कोराम अगर पूरे नहीं हों तो ग्रामसभा और उसके निर्णय दोनों ही अमान्य हैं  )

ग्राम सभा के अध्ययक्ष

ग्राम सभा में अध्यक्ष का चुनाव सर्वसम्मति से किया जाता है । अध्यक्ष वहीं महिला या पुरूष को बनाया जाता है जो उसी गांव का हो और जानकार हो ।उसकी भूमिका काफी अहम होती है, उसे एक दिन के मुख्यमंत्री के बराबरा का रूतबा हासिल होता है । ग्राम सभा में होने वाले किसी फैसले पर अगर विवाद हो तो अध्यक्ष का फैसला ही अंतिम और सर्वमान्य होता है।
मगर जहां पांचवी अनुसूचि लागू नहीं है वहां अध्ययक्ष सरपंच या वार्ड पंच बनता है। 

कब होती है ग्राम सभाएं ?

ग्राम सभा आवश्यकतानुसार आयोजित की जा सकती है मगर कुछ ऐसी तारीखें होती है जिनमें ग्राम सभाएं अनिवार्य रूप से आयोजित की जाती है ।
इनमें चार सप्ताह की तारीखें निम्नानुसार है
2 अक्टूबर वाले सप्ताह पर कभी भी
23 जनवरी की सप्ताह पर कभी भी
14 अप्रेल के सप्ताह पर कभी भी
20 अगस्त वाले सप्ताह पर कभी भी

अक्सर देखा जाता है कि ग्रामसभा में गांव के प्रभावशाली व्यक्ति या सरकारी कर्मचारी ही निर्णायक भूमिका निभाते है जो सर्वथा नियम विरूद्ध है।

इसमें पिछड़े व कमजोर लोगों को बोलने का अधिकार मिलना चाहिए।
इन तामाम जानकारियों के लिए सामाजिक कार्यकर्ता नूरूल हसन का मै आभारी हूॅं
ग्रामसभा को लेकर ये जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट बाॅक्स पर अपनी प्रतिकिया अवश्य दें ।
Please follow and like us:
error20

Hits: 8

Author: adji

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.