योगाभ्यास में क्या करना चाहिए ?

योग से आज के समय में सभी परिचत हैं । विदेशों में इसके सम्बध में बहुत अधिक जिज्ञासा है। परन्तु इस सम्बन्ध में लोगों ने अनेक भ्रम भी पाल रखे हैं कुछ लोग तो इसे एक दर्शन के रूप में जानते हैं और कुछ इसे मात्र एक आध्यामित्क  विधि मानते हैं , अधिकांश लोग इसे एक प्रकार का शारीरिक व्यायाम मात्र ही समझते हैं तथा कुछ अन्य इसे असाध्य रोगों की चिकित्सा पद्धति के रूप में मान्यता देते हैं । ये सभी अर्थ योग के विभिन्न पक्षों को उजागर करते है। योग के विभिन्न पहलुओं  पर अगर गौर करें तो हम पाते हैं योग एक विशाल सागर है जिससे व्यक्ति अपनी-अपनी आवश्यकतानुसार लाभ अर्जित करता है। योग वास्तव में स्वयं प्रकाश आत्मा के स्वरूप को अनुभव कराने की विद्या है, जिसका वर्णन गीता में ‘‘समत्वं योग उच्यते’’ तथा‘‘योगः कर्मसु कौशलम् ’’ कहकर किया गया है।
वर्तमान समय में योग के लेकर अनेक सवाल हैं जिसे हर यागाभ्यास करने वाले को जानना चाहिए।
आइए जाने वे क्या हैं ?

Please Read This too

योग से पहले क्या खाएं और क्या नहीं ?

अभ्यास से तीन घंटे पहले गरिष्ठ या मसालेदार भोजन न करें । दलिया, खिचड़ी के अलावा पेय पदार्थ भी ले सकते है। सलाद खा सकते हैं।

व्यायाम से पहले क्या किसी प्रकार का वाॅर्म अप करना चाहिए?

आमतौर पर वर्कआऊट से पहले की गई कियाएं असल में योग कियाएं ही हैं जिन्हें वाॅर्मअप का नाम दिया है। संम्पूर्ण रूप से इसे सूर्य नमस्कार कहते हैं । वहीं योगासन के अंत में 5-10 मिनट का शवासन जरूर करना चाहिए ताकि शरीर और सभी अंगों को आराम मिल सके ।
योगा क्रियाओं को करने का एक तय क्रम है । क्रम से न करने और आसन करने के दौरान मुद्रा सही न बनने से शरीर का आकार बिगड़ जाता है। जिसे चोट लगने व पहले से मौजूद तकलीफ बढ़ने की आशंका रहती है।

क्या गर्भवती महिला योग कर सकती है?

इनके लिए विशेष योगासन है जिन्हं विशेषज्ञ की देखरेख में करना चाहिए। योग करें या नहीं, ऐसा महिला के गर्भ में पल रहे शिशु स्थिति और शरीर की अवस्था के आधार पर तय करते हैं । प्रेगनेन्सी के दौरानकिसी भी गलत क्रिया से जटिलता बढ़ सकती है।

बस्तरिया बियर

यह एक प्रकार का मादक पेय है जिसे आम भाषा में ताड़ी भी कहते है आदिवासियों जीवन में सल्फी मादक पेय ही नहीं बल्कि सामाजिकता का प्रतीक भी है जानते है क्या खूबियां है इस पेय में

इस कारण से चित्रकोट जलप्रपात सूख गया

जानिए क्या कारण है चित्रकोट जल प्रपात सूख गया है चंद दिनांे में ही चित्रकोट में पानी देखने को
मिला ठीक वैसे ही जैसे यह आमतौर पर देखने को मिलता है। बस्तर के नियाग्रा फाल समझे जाने वाले इस चित्रकोट
जलप्रपात में हर साल काफी संख्या में पर्यटक आते है । इस बार पर्यटकों के साथ पर्यावरण प्रेमी भी चित्रकोट फाॅल के
इस रूप पर अचंभित थे जानिए क्या है वें
क्लिक कीजिए।

जानिए क्या कारण है चित्रकोट जल प्रपात सूख गया है चंद दिनांे में ही चित्रकोट में पानी देखने को
मिला ठीक वैसे ही जैसे यह आमतौर पर देखने को मिलता है। बस्तर के नियाग्रा फाल समझे जाने वाले इस चित्रकोट
जलप्रपात में हर साल काफी संख्या में पर्यटक आते है । इस बार पर्यटकों के साथ पर्यावरण प्रेमी भी चित्रकोट फाॅल के
इस रूप पर अचंभित थे जानिए क्या है वें

Play School
Spoken English Classes
previous arrow
next arrow
Slider

कब्ज की समस्या में  योग करना चाहिए या नहीं

नहीं ! ऐसे में योग नहीं करना चाहिए। पेट साफ होना जरूरी है। वजह, योग के दौरान शरीर के चक्र उत्तेजित होने से शरीर पर सकारात्मक असर होता है। इसके लिए मुनक्का दुध के साथ उबालकर, त्रिफला या इसका चूर्ण रोत को लेकर सोएं,
पेट साफ होगा।
आफिस में काम करने वाले व पढ़ाई के दौरान छात्र किस प्रकार योगाभ्यास कर सकते है?
मन सुबह शांत व मस्तिष्क एकाग्र रहता है। इस समय योग क्रियाएं फायदेमंद होती है। समय न मिलने पर आॅफिस में या पढ़ाई के दौरानआ चाहें तो गर्दन, हाथ व पैरों के मूवमेंट संबंधी क्रियाएं कर सकते हैं ।

                           इसे भी पढ़िए धनुरासन कैसे करें

यू ट्यूब में दिखाए जाने वाले योग कितने फायदे मंद हैं?

यू ट्यूब में दिखाए गए योग फायदेमंद हो सकते हैं बर्शते जैसा दिखाया गया है वैसा ही हो । उसमें एक्सपर्ट के बनाए विडियो को आपको अनुशरण करना चाहिए।

क्या योगाभ्यास के दौरान पानी पीना चाहिए?

अक्सर किसी भी प्रकार के शारीरिक गतिविधि से प्यास लगती है। लेकिन योगाभयास के दौरान शरीर में धीरे -धीरे ऊष्मा बढ़ती है। इस दौरान अगर ठंडा पानी पी लेने से जुकाम, कफ तथा एलर्जी की आशंका बढ़ जाती है। ऐसे सलाह तो यही दी जाती है कि योगाभ्यास के 10-15 मिनट के बाद ही पानी पीएं ।
क्या योग से वजन कम हो सकता है?
हां, योग के नियमित अभ्यास से शरीर में मौजूद अतिरिक्त चर्बी घटती है। और शरीर लचीला, सुडौल बनता है।
बुजुर्ग कौन से योग कर सकते हैं?
बुजुर्गों में अंदरूनी अंग धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगते है। इससे हार्ट संबंधी रोगों की आशंका बड़ जाती है। शारीरिक क्षमतानुसार कोई भी योगासन कर सकते हैं । यदि किसी बीमारी में हैं तो डाॅक्टर की सलाह पर ही योग करें।

Please follow and like us:
error20

Hits: 383

Author: adji

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.