क्यों मनाई जाती है ?

भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव यानी जन्माष्टमी में इस बार 23 और 24 अगस्त को दो दिन रहा है। जन्माष्टमी का पर्व हिन्दु पंचाग के अनुसार,Read More

Jainism जानिए जैन धर्म को

ऋषभदेव जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर थे। ऋषभदेव महाराज नाभि और मेरुदेवी के पुत्र थे। दोनों द्वारा किए गए यज्ञ से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु स्वयं प्रकट हुए और उन्होंने महाराज नाभि को वरदान दिया कि मैं ही तुम्हारे यहां पुत्र रूप में जन्म लूंगा।

बस्तर में अनूठी होली

में इस दिन कोई रंग गुलाल नहीं खेला जाता है । मान्यता के अनुसार इस दिन सभी माड़पाल की होली में शरीक होते है परिणामस्परूप ग्राम कलचा खाली रह जाता है। यहां रंग पंचमी को रंग गुलाल खेल कर होली मनाई जाती है…..

शिवरात्रि का महत्व

एक दैविय योजना के अन्तर्गत शिव पार्वती से जन्म लेने वाला ही तारकेश्वर नामक राक्षक का वध कर सकता था। इसलिए शिव पार्वती का विवाह होना तय था । पार्वती सती की अवतार थी और उसने शिव को पति के रूप में पाने के

बस्तर-आदिवासी समाज की मान्यताएं

बस्तर में आदिवासी समाज के विषय में पड़ताल के संपादित अंश. जिस तरह हमारा शरीर पाँच तत्वों से बना है, उसी तरह आदिवासी समाज भी मानता है कि उसकी काया माटी से बनी है

बस्तर के मंडई और मेले

मेला शब्द ‘ मिलन’ शब्द से बना प्रतीत होता है. मेला शब्द में एक रोमांच है. मेला होता तो है ही….. लगता, बैठता और भरताRead More

विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा

दंतेश्वरी मंदिर में एक काले कबूतर व सात मोंगरी मछलियों तथा श्रीराम मंदिर में उड़द दाल व रखिया कुम्हड़ा की बलि दी जाती है। बस्तर दशहरा का प्रमुख विधान निशा जात्रा पर बकरों की बलि देकर एक के ऊपर एक सात हंडियों में भोजन तैयार कर देर रात निशा

हैप्पी क्रिसमस

क्रिसमस पूरी दुनियां में 25 दिसंबर को मनाया जाता है। क्योंकि इस दिन प्रभु इसा मसीह का जन्म हुआ था। यह इसाई समुदाय का सबसेRead More

आशो की बातें

ओशो का जन्म मध्यप्रदेशके कुचवाड़ा में 11 दिसंबर 1931 को हुआ था। वे एक एसे अध्यात्म गुरू थे जो विवादों में घिरे रहे। उनके प्रवचानोंRead More

साड़ियों के प्रकार

आज के ब्लॉग में भारतीय महिलाओं द्वारा पहने जाने वाले परिधानों पर हम चर्चा कर रहें है । भारत में त्योहारों का मौसम सितंबर सेRead More

माँ के नौ रूप

दोस्तों ! नवरात्रि का नाम आते ही हमारे दिमाग में मां पार्वती की तस्वीर सामने आ जाती है । मां की पहचान है शक्ति काRead More