1 Comment
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

Lok Sabha

इस प्रणाली की सबसे बड़ी खूबी यह है कि यहां सरकार जनता चुन कर लाती है और जनता के हाथ में ही सरकार की बागडोर होती है। और सरकार हमारे यहंा दो प्रकार की होती है । एक केन्द्र पर और दूसरा राज्यों पर ।

 1 Comment
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

अमेरिकी दूध से बने उत्पाद भारत में बंद

क्या है GSP ? अमेरिका ने भारत को GSP यानि…

 4 Comments
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

भारत के प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री का पद पूणतः राष्ट्रपति की कृपा और लोकसभा में बहुमत पर टिका होता है। अगर लोकसभा के अधिंकाश सदस्य यानि सांसद अगर चाहे तो प्रधानमंत्री के खिलाफ सदन में अपना मत वापस ले कर उसे पद से हटा सकते है

 2 Comments
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

लोकसभा चुनाव 2019

इस एप का नाम है सी-वीजिलइस एप को आप सीधे गूगल एप से डाउन लोड कर सकते हैं । या फिर लिंक पर क्लिक करते ही आपको यह निदेर्शित करेगा कि कैसे इस एप का इस्तेमाल करें। या फिर सीधे कॉल करें 1800111950 पर या राज्य में 1950 पर

 Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

पाकिस्तान में पुलवामा हमले के बाद टमाटर के दाम बढ़े

जहां तक टमाटरों की बात है तो किसी बिमारी के फैलने की आशंका से पाकिस्तान ने भारतीय, आलू और टमाटारों पर प्रतिबंध लगा दिया है । ये यह प्रतिबंध आज नही बल्कि पिछले दो सालों से लगा हुआ है।

 1 Comment
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

आचार संहिता क्या है ?

इसका प्रमुख उद्येश ये है कि सत्ता पक्ष चुनाव परिणामों को अपने पक्ष में न कर सके और चुनाव निष्पक्ष रूप से किये जा सके ताकि सभी राजनितिक दल आश्वस्त हो कि चुनाव परिणाम में कोई धांधली नही हुई है / और ये संहिता यानी नियम सभी राजनितिक दलों, उम्मीदवारों …..

 Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in Politics Talks

अरविन्द केजरीवाल :एक राजनेता

इस शख्स की विशेषता थी इसकी सीधी सीधी सही बातें व इसका साधरण रहन सहन लोगों को इसी बात ने काफी आकर्षित किया और इसके साथ में देश के लिए कुछ कर गुजरने का जुनुन था जिसके कारण यह शख्स लोगों की आंखो का तारा बन गया ।

 1 Comment
 Continue Reading...
Posted in Education Politics

लालबहादुर शास्त्री के बारे में कुछ जानकारी

पहले केंद्रीय मंत्री और फिर नेहरू जी की मृत्यु के बाद प्रधानमंत्री के पद पर पहुॅचे शास्त्रीजी अपने जीवनकाल में ही सादगी और ईमानदारी की किवदंती बन गए थे। भारतीय राजनीति के लम्बे इतिहास में उनके जैसे आचरण वाले व्यक्तित्व अंगलियों पर गिने जाते हैं।

 1 Comment
 Continue Reading...
Posted in Politics

11 दिसंबर को जनता फिर से ठगी जाऐगी

11 दिसंबर को लगता है जनता फिर से ठगी जाऐगी…

 Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in Politics Thought

बेलगाम सशक्त मीडिया

प्रजा तंत्र के चार प्रमुख स्तंभ है एक विधायिका -जिसमें…